अंतरिक्ष के कुछ दुर्लभ अज्ञात तथ्य

अंतरिक्ष के रहस्य

ब हम आसमान की ओर सितारों को देखते हैंतो हम क्या सोचते हैंकि क्या हम अकेले हैं इस विशाल अंतरिक्ष में या ब्रह्मांड! जिसमें हम इन्सानों का अस्तित्व मात्र एक छोटे से बिंदु के बराबर है। पर वास्तविकता तो यह है कि हम इसके बारे में हमारे द्वारा उठाए गए सभी सवालों के जवाब भी नहीं जानते।


हम बस इतना ही जानते हैं कि यह विशाल और सुंदर हैलेकिन वास्तव में यह कितना विशाल या विशालता के मामले में कितना सुंदर हैहालांकिहम जो भी जानते हैंवह सब आधुनिक उपकरणों से लिए गए चित्रों और दिमाग की सोच पर निर्भर है। 


अंतरिक्ष के कुछ दुर्लभ तथ्य

इस पोस्ट में हमने अंतरिक्ष के कुछ दुर्लभ अज्ञात तथ्य एकत्रित किए हैंजिनको जानकार आप अपनी अभी तक की जानकारी और अपडेट कर सकते हैं और आगे से जब भी आप आसमान के तारों को देखें तो उस पर अधिक ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। अंतरिक्ष के बारे में खोज करने के लिए बहुत कुछ हैजो हमें आश्चर्यों से भर देता है। 

    न्यूट्रॉन तारे- 

    न्यूट्रॉन तारे 600 चक्कर प्रति सेकंड की दर से घूम सकते हैं क्योंकि न्यूट्रॉन तारे उच्च द्रव्यमान वाले सितारों के संभावित विकासवादी अंत बिंदुओं में से एक हैं। वे एक कोर-पतन व सुपरनोवा स्टार विस्फोट में पैदा हुए हैं 


    और बाद में अपनी भौतिकी के परिणाम स्वरूप बहुत तेजी से घूमते हैं। न्यूट्रॉन तारे जन्म के बाद प्रति सेकंड 60 बार तक घूम सकते हैं। विशेष परिस्थितियों में, यह दर प्रति सेकंड 600 से अधिक बार बढ़ सकती है।

     

    अंतरिक्ष पूरी तरह से खामोश है-

    अंतरिक्ष या ब्रह्मांड के बारे में रोचक तथ्य यह है कि ध्वनि तरंगों को यात्रा करने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता होती है। चूँकि अंतरिक्ष के निर्वात में कोई भी वायुमंडल नहीं होता


    इसलिए तारों और ग्रहों के बीच का क्षेत्र हमेशा खामोश रहेगा वायुमंडल और वायु दबाव के साथ हमारी दुनिया ध्वनि को यात्रा करने की अनुमति देती है, इसीलिए पृथ्वी पर बहुत शोर है तथा अन्य ग्रहों पर भी ध्वनि के यात्रा करने की संभावना हो सकती है।


    ब्रह्मांड में सितारों की एक बेशुमार संख्या-

    हमें मूल रूप से यह पता नहीं है कि पूरे ब्रह्मांड में कितने तारे हैं? हम अभी अपने उपकरणों और खुद के अनुमान का उपयोग करते हैं कि हमारी अपनी आकाशगंगा "मिल्की-वे" में कितने तारे हैं


    हम उस संख्या को ब्रह्मांड में आकाश गंगाओं की संख्या के सर्वश्रेष्ठ अनुमान से गुणा करते हैं। प्राप्त परिणामों के आधार पर नासा केवल संभावित रूप से कह सकता है कि ब्रह्मांड में सितारों की एक बेशुमार संख्या है। 


    चंद्रमा पर अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों के पैरों के निशान-

    चूंकि चंद्रमा पर वायुमंडल उपस्थित नहीं है, इसलिए चंद्रमा पर अपोलो अंतरिक्ष यात्रियों के पैरों के निशान को मिटाने या हटाने के लिए यहां कोई हवा या पानी नहीं है। इसका मतलब है कि उन अंतरिक्ष यात्रियों के पैरों के निशान, रोवर-प्रिंट, स्पेसशिप-प्रिंट, और छोड़ी गई सामग्री चंद्रमा पर बहुत लंबे समय तक संरक्षित रहेगी।

     

    हालाँकि ये निशान वहाँ हमेशा के लिए नहीं रहेंगे क्योंकि चंद्रमा पर अभी भी एक गतिशील वातावरण है। असल में "माइक्रो-मीटरोइट्स" यहां पर लगातार बमबारी करते रहते है, जिसका अर्थ है कि चंद्रमा पर बहुत धीरे-धीरे क्षरण अभी भी हो रहा है। 


    चंद्रमा से संबंधित एक सामान्य प्रश्न है कि पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है? आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी 384,400 किमी0 है।


    हमारे सौर मंडल का 99 प्रतिशत द्रव्यमान सूर्य है-

    149.6 मिलियन किमी0 यह पृथ्वी से सूर्य की दूरी है। हमारा तारा सूर्य इतना घना है कि हमारे पूरे सौर मंडल के पूरे द्रव्यमान का 99 प्रतिशत हिस्सा है। जिस कारण है इसका गुरुत्वाकर्षण बाकी सभी ग्रहों पर हावी होने की अनुमति देता है।

     

    तकनीकी रूप से, हमारा सूर्य एक "G-Type Main-Sequence Star" है जिसका मतलब है कि हमारा सूर्य प्रत्येक सेकेंड लगभग 600 मिलियन टन हाइड्रोजन से हीलियम को फ्यूज करता है और लगभग 04 मिलियन टन पदार्थ को ऊर्जा के रूप में परिवर्तित करता है।

     

    लेकिन जब हमारा सूर्य मर जाएगा, तो यह एक विशालकाय लाल तारे में बदल जाएगा और हमारे सौर मंडल में गहरा अंधेरा चारों ओर छाने लगेगा इसी के साथ अंत की शुरुवात हो जाएगी। लेकिन चिंता मत करिए हमारे सूर्य का अंत अभी कम से कम 05 अरब वर्षों के लिए नहीं होगा। 


    एक वर्ष में अन्य ग्रह की तुलना में सूर्य की ऊर्जा हर घंटे पृथ्वी से अधिक टकराती है-

    सौर ऊर्जा का उपयोग पिछले 15 सालों से हर साल 20 प्रतिशत की दर से बढ़ी है। एक अमेरिकी ऑनलाइन पत्रिका Yale Environment 360 के अनुसार, पूरी दुनिया ने 2017 में 30 प्रतिशत अधिक सौर ऊर्जा क्षमता को संरक्षित किया गया


    जिसका मतलब है कि साल 2017 में 98.9 गीगावॉट सौर ऊर्जा का उत्पादन किया गया था। बड़ी संख्या होने के बावजूद भी ऊर्जा की यह मात्रा, दुनिया के वार्षिक बिजली के उपयोग या उपभोग का केवल 0.7 प्रतिशत है।


    कोल्ड वेल्डिंग-

    अंतरिक्ष के बारे में रोचक तथ्य एक यह भी है कि "यदि अंतरिक्ष में एक ही प्रकार के धातु के दो टुकड़े आपस में स्पर्श करते हैं, तो वे स्थायी रूप से एक साथ चिपक जाएंगे" इस अद्भुत प्रभाव को कोल्ड वेल्डिंग कहा जाता है। 

     

    ऐसा इसलिए होता है क्योंकि किसी भी धातु के अलग-अलग टुकड़ों के परमाणुओं को जानने का कोई तरीका नहीं है कि वे अलग-अलग धातु के अलग-अलग टुकड़े हैं, इसलिए वे अंतरिक्ष में एक अटूट गांठ के साथ आपस में जुड़ जाते है।

     

    लेकिन हमारी पृथ्वी पर यह नहीं होगा क्योंकि यहां के वायुमंडल और वातावरण में तत्व स्वतः ही अलग-अलग हैं। पर कोल्ड वेल्डिंग का महत्व अंतरिक्ष यान निर्माण आदि के लिए बहुत अधिक है और भविष्य में कोल्ड वेल्डिंग आधारित निर्माण, रोजगार के अवसर भी पैदा कर सकता है। 

     

    देखिये अंतरिक्ष के रहस्य को समझने के लिए हमें सबसे पहले अपने ग्रह पृथ्वी को अच्छे से समझना होगा क्योंकि अभी तक ज्ञात जीवन केवल हमारे ग्रह पर ही है और हमारी पृथ्वी का अस्तित्व अंतरिक्ष में मात्र एक एक रेत के कण के बराबर।


    हमारे सौर मंडल का सबसे बड़ा क्षुद्रग्रह- 

    क्षुद्रग्रह- जिसे कभी-कभी बौने ग्रह के रूप में जाना जाता है- जिसका लगभग 600 मील व्यास का होता है। हमारे सौर मंडल का सबसे बड़ा क्षुद्रग्रह सेरेस नामक अंतरिक्षीय चट्टान का एक विशाल टुकड़ा है 


    यह मंगल और बृहस्पति ग्रह के बीच क्षुद्रग्रह बेल्ट में अब तक का सबसे बड़ा और बेल्ट के द्रव्यमान का एक तिहाई (1/3) हिस्सा है। सेरेस का सतह क्षेत्र भारत या अर्जेंटीना के भूमि क्षेत्र के लगभग बराबर है।


    शुक्र पर एक दिन, पृथ्वी पर एक वर्ष से अधिक लंबा है-

    शुक्र ग्रह एक अत्यंत धीमी धुरी परिक्रमा करता है जो अपना एक परिक्रमण चक्र को पूरा करने में लगभग 243 पृथ्वी दिन लेता है। यह आपको काफी रोचक लग सकता है, हमारी पृथ्वी के दिनों के अनुसार शुक्र ग्रह सूर्य के चारों ओर एक परिक्रमा (चक्कर पूरा) करने में भी कम से कम 226 पृथ्वी दिन ले लेता है। 

     

    साधारण भाषा में शुक्र ग्रह अपने अक्ष पर एक चक्कर पूरा करने में लगभग 243 पृथ्वी दिन और सूर्य का चक्कर पूरा करने में लगभग 226 पृथ्वी दिन ले लेता है। इसके अलावा, शुक्र ग्रह पर सूर्य हर 117 पृथ्वी दिनों में उगता है, जिसका मतलब है कि साल में सूर्य केवल दो बार उगता है। 

     

    शुक्र ग्रह के परिपेक्ष में सामान्य ज्ञान में पूछा जाने वाला एक प्रश्न- कौन सा ग्रह पूर्व से पश्चिम की ओर घूमता है? इसका उत्तर- चूँकि शुक्र ग्रह दक्षिणावर्त घूमता है मतलब सूर्य का उदय पश्चिम में होगा और पूर्व में अस्त होगा।


    बृहस्पति ग्रह का रेड स्पॉट-

    पिछले कुछ दशकों में बृहस्पति ग्रह का प्रसिद्ध रेड स्पॉट (लाल धब्बा) सिकुड़ रहा है। ग्रह की इस जगह पर एक विशाल घूमने वाला तूफान पिछले कई सालों से चल रहा है जो कि 03 पृथ्वी जैसे ग्रहों को निगलने में सक्षम था। 


    लेकिन अब यह सिकुड़ कर केवल एक पृथ्वी जैसे ग्रह को निगलने तक सीमित रह गया है। दिलचस्प बात यह है कि यह तूफान चौड़ाई में सिकुड़ रहा है, और लंबाई में और लंबा हो रहा है। 


    दो अलग-अलग विशिष्ट रंग का चंद्रमा-

    Iapetus (तीसरा सबसे बड़ा चंद्रमा) शनि के 62 चंद्रमाओं में से एक है, असल में यह एक बहुत ही अनोखा खगोलीय पिंड है। शनि के इस चंद्रमा में दो अलग-अलग विशिष्ट रंग है, जिसमें एक पक्ष दूसरे की तुलना में बहुत गहरा है।

     

    यह अजीब घटना सौर मंडल में मौजूद किसी भी अन्य चंद्रमा पर मौजूद नहीं है। शनि के बाकी चंद्रमाओं के संबंध में Iapetus (इपेटस) का रंग अपनी विशेष स्थिति दिखाता है। जिससे पता चलता है कि इपेटस शनि के छल्लों के बाहर का रास्ता है। 


    फोर्ब्स पत्रिका के अनुसार, अंधेरे क्षेत्रों की व्याख्या करते हुए, अंतरिक्ष का बहुत सा मलबा इसकी कक्षा से गुजरने से इससे टकरा जाते हैं।

     

    Phoebe (फोएबे) एक अन्य शनि चंद्रमा, जो इपेटस की तुलना में पूरी तरह से अंधकारमय और दूरस्त है, शनि के चारों ओर दक्षिणावर्त घूमता है और "कणों की एक स्थिर धारा का उत्सर्जन करता है।" 


    इपेटस वामावर्त घूमता है, जिसका अर्थ है कि इपेटस का केवल एक पक्ष फोएबे से आने वाले कणों के साथ टकरा जाता है जब वे एक दूसरे के पीछे घूमते हैं। यह बताता है कि इपेटस पूरी तरह से अंधकारमय न होकर केवल आंशिक रूप से है।


    अंत में-

    अंतरिक्ष के कुछ दुर्लभ अज्ञात तथ्यों में अभी तक इतना ही., उम्मीद करता हूँ कि आपको अंतरिक्ष के कुछ हैरान कर देने वाले रोचक तथ्य अवश्य पता चले होंगे। आगे समय-समय पर और भी तथ्यों से इस पोस्ट को अपडेट किया जाता रहेगा। पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों और ज़रूरतमंद को Share करे।  यदि कुछ कहना या पूछना चाहते हैं तो Comment Box में लिखे।

     

    अंत में बस यही कहना चाहूंगा कि हमेशा अपनी जानकारी को अपडेट करते रहें, पढ़ें और पढाएं और अपने चारों ओर ज्ञान फैलाएं।

     

    धन्यवाद!

    जय हिन्द! जय भारत!

    right-sidebar


    Post a Comment

    और नया पुराने