मानव स्वभाव के कड़वे सच | Human behavior bitter truth

हमारा स्वभाव ही हमारे व्यक्तित्व का निर्माण करता है, और जैसा हम व्यवहार करते हैं उसके आधार पर ही हमारा रुतबा समाज में बनता चला जाता है. हम मानवों का आदर्श, शील व संतुष्ट स्वभाव समाज में प्रतिष्ठित होने का एक मात्र मार्ग है

लेकिन क्या आपको पता है कि हमारे मानव स्वभाव के कुछ कड़वे सच भी होते हैं, जिन्हें जानना हमारे लिए बेहद आवश्यक है।

मानव-स्वभाव-के-कड़वे-सच | Human-behavior-bitter-truth

नमस्कार मित्रों स्वागत है आपका! आज हम आपको मानव स्वभाव से जुड़े कड़वे सच व बातों से अवगत कराने के लिए कुछ तथ्यों को बताने जा रहे हैं। उम्मीद है कि आप इन तथ्यों को पढ़ और समझकर अपने जीवन को एक नई दिशा दे पायें। चलिये शुरू करते हैं-


   ज्यादातर लोगों के बारे में दुनिया का कड़वा सच यह है कि जो लोग सोशल मीडिया पर खुद की खुशी का आत्म-चित्रण जैसे- फोटो, वीडियो पोस्ट करते हैं असल में वे अपनी निजी जिंदगी में उदास रहते हैं और share किए गए चित्रण द्वारा खुशी ढूंढने का प्रयास करते हैं।

               ज़्यादातर मामलों में नव-विवाहित जोड़े या युगल जो तस्वीरें और क्षण सोशल मीडिया या कहीं और share करते हैं, उनमें से अधिकांश सच्चे प्यार के नहीं होते, देखा जाए तो यह बस कुछ आकर्षण और लोक-प्रसिद्धि पाने के लिए किया गया एक पैतरा मात्र है।

           सच्चे प्यार की परख तब मानी जाएगी जब उनके पास आगे भविष्य के 10 साल बाद भी वही पोस्ट करने का समय हो। यही जिंदगी का असली सच है, कड़वा है मगर सच है।


  आज की जिंदगी का कड़वा सच क्या है? आज के दौड़-भाग के दौर में कम से कम आधी शादीशुदा आबादी अपनी व्यक्तिगत पारिवारिक (सेक्स) लाइफ से खुश नहीं है क्योंकि वह तनाव या अवसाद का शिकार है।

            डिप्रेशन के चलते लोग ना समझी के कारण अपने गलत फैसलों से अपनी जिंदगी को सही दिशा नहीं दे पाते और यह असल में अधिकतर लोगों के जीवन का कड़वा सच है।

   जिंदगी के सबसे बड़े कड़वे सच में से एक यह है कि आजकल के दौर में शादी-विवाह एक व्यवसाय बनकर रह गया है कुछ लोगों की विक्षिप्त मानसिकता ने इस पवित्र सम्बन्ध को व्यापारिक बना दिया है,

            जिसमें रिश्तों के मायने बस नाम मात्र के ही बचे हैं, आवश्यकता से अधिक पैसे की चाह के कारण पारिवारिक हिंसा के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल ही जाती है.


   जीवन के कड़वे सच में से एक है कि आज की पीढ़ी के कई बच्चे अधिक मात्रा में रोजाना पोर्न (अश्लील सामग्री) देखते हैं। एक शोध के मुताबिक जिन बच्चों की पहुंच में इंटरनेट और स्मार्ट मोबाइल फोन होता है

            उन्ही के द्वारा पोर्न की सबसे ज्यादा खपत की जाती है। पोर्न देखने से दिमाग के विकास करने की क्षमता पर गहरा प्रभाव पड़ता है। जबकि मनोविज्ञान के मुताबिक एक ख़राब लत आपके जीवन को बर्बाद करने के लिए पर्याप्त होती है.


  आज के कलयुग का कड़वा सच यह है कि जिस व्यक्ति पर आप सबसे अधिक भरोसा या विश्वास करते हैं, वह इसके लायक नहीं है क्योंकि देखा गया है कि विपरीत समय आने पर वह व्यक्ति आपका साथ दे, इसकी संभावना बहुत ही कम होती है।

            वहीं वह व्यक्ति आपके लिए सबसे खतरनाक भी साबित हो सकता है क्योंकि उस व्यक्ति को आपके सारे राज पता हैं जो आपके सुदृण भविष्य के लिए एक बाधक है.

            मनोविज्ञान के अनुसार आपके जितने राज किसी अन्य को पता होंगे, आपको धोखा या विश्वासघात मिलने की संभावना उतनी ही अधिक होगी.


   सबसे अच्छे दोस्त वही होते हैं जिनकी ज़िंदगी आपके सामने खुली किताब की तरह और आपकी पूरी पहुँच में होती है। ऐसे दोस्त आपकी मदद के लिए हमेशा आपका साथ देते हैं।

            लेकिन आज के समय में ऐसे दोस्तों का मिलना बेहद कठिन है क्योंकि आज के समय में लोग अपने दुःख से नहीं बल्कि दूसरे के सुख से परेशान है और यह दुनिया के सबसे बड़े कड़वे सच में से एक है.


   जिंदगी का असली और वास्तविक सच यह है कि आज के दौर में किए गए 90% वादे झूठे ही निकलते है। आज के इस कलयुग में लगभग ऐसा सभी के साथ होता है और यह मेरा खुद का अनुभव है। हो सकता है आपका अनुभव कुछ और हो ... कमेंट में जरूर लिखें।


  पहला प्यार ही सच्चा प्यार होता है क्योंकि पहला प्यार आपको भावनात्मक रूप से दृढ़-इच्छा शक्ति विकसित करने का मौका प्रदान करता है।

            जिससे आप अपने सपनों को पूरा करने के लिए कर्मठ और क्रियाशील हो जाते हैं। क्या आपको भी अपना पहला प्यार याद है? अगर हां तो comment में हमें जरूर बताएं.


   समझदार लोग संतुष्ट रहने के उद्देश्य के साथ जीवन जीते हैं जिससे वे अपने आस-पास के साथ पूरे समाज को भी प्रभावित करते हैं। वहीं ना समझ लोग हमेशा अपने जीवन की उपलब्धियों को महत्व न देकर खुद को कोसने का काम ही करते हैं,

            जिससे उनका जीवन सामान्य से कठिन हो जाता है. मनोविज्ञान कहता है कि जीवन को माएने देने के लिए जीवन का लक्ष्य या उद्देश्य होना बेहद जरूरी है. आप किस उद्देश्य के लिए जीवन को माएने देते हैं? Comment में जरूर उल्लेख करें।


   आज की पीढ़ी जिसे हम देख रहे हैं, दुनिया की सबसे नकली पीढ़ी है। सोशल मीडिया पहले की तुलना में अधिक नकली हो गया है। हम देखते हैं कि ज्यादातर सोशल मीडिया पर अपलोड तस्वीरों में आधा-आधा किलो मेकअप से सजे और पॉलिश किए हुए चेहरे दिखाई देते हैं। जिसे देखकर हम कह सकते हैं कि नकली दुनिया में आपका स्वागत है।

    दुनिया के सबसे बड़े कड़वे सच में से एक यह है कि लोग अपने जीवन की अंतिम सांस तक अपने नकलीपन को दिखाते या दिखाना पसंद करते हैं जो कि मानव स्वभाव की उच्चतम धूर्ता है।

            ऐसे लोग न केवल अपने बल्कि अपने परिवार व खानदान के सम्मान को सरेआम हंसी का पात्र बना देते हैं। मनोविज्ञान के मुताबिक ऐसे लोगों में जीवन के प्रति संतुष्टि की भावना न के बराबर वहीँ मोह की भावना कूट-कूट कर भरी होती है

 

   समाज का कड़वा सच यह है कि नारीवाद शब्द नारीवाद को छोड़कर अन्य सभी तरीकों से नारीवाद के लिए उपयोग किया जाता है।

            हमारे समाज की सबसे बड़ी विडंबना है की लोग मामले की मूलता से हटकर अफवाहों और बेकार की बातों पर अपनी प्रतिक्रिया बड़ी जल्दी दे देते हैं और यह हमारे मानव स्वभाव के सबसे कड़वे सचों में से एक है.


  लोग अक्सर उन व्यक्तियों से प्यार करना और उनकी देखभाल करना भूल जाते हैं जिसने उनको अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए बहुत संघर्ष किया है, हमेशा उनका साथ दिया

            और उनके हर अपमान और बुरे वक्त का सामना डटकर किया और यह अब तक का जिंदगी का सबसे कड़वा सच है। आज के समाज में आँखों से ऐसे दृश्य देखने को मिलते ही रहते हैं. सहमत हैं तो comment में जरूर लिखें.


  जिंदगी का कड़वा सच यह है कि लोग खुद को प्यार करने के बजाय अपनी इच्छाओं को पूरा करने वाले पैसों से ज्यादा प्यार करते हैं।

            इस बात को परखने के लिए आप उस इंसान को देखिये जो थोड़े से पैसों के लालच में आकर किसी का और कभी-कभी अपनों का भी बड़े स्तर नुकसान कर देता है। सब कुछ गंवा देने के बाद ऐसे व्यक्ति को पछतावे में जीवन भर के लिए सीख मिलना स्वाभाविक ही है.


   दुनिया में सबसे अनमोल चीज क्या है? यह प्रश्न थोड़ा विवादस्पद लगता है क्योंकि हर किसी के लिए अनमोल शब्द का मतलब अलग-अलग ही होता है.

            वैसे मेरी सोच और विचार से दुनिया में हम इंसानों के लिए सबसे अनमोल चीज है उसके संबंध! फिर चाहे वो कैसा भी संबंध हो- पिता, पुत्र, माता, बहन या फिर मित्र का, क्योंकि बिना किसी संबंध के मनुष्य का जीवन पशुओं से भी बत्तर हो जाएगा. आप स्वयं कल्पना करके देखिए और comment में हमें बताए.


इन्हें भी पढ़ें-

ईश्वर का अस्तित्व | Existence of God

आकर्षण का सिद्धांत कैसे काम करता है

खुद को बेहतर कैसे बनाएं

तो ये थे लाइफ के कड़वे सच साथ ही मानव स्वभाव के कड़वे सच के बारे इन तथ्यों के अलावा और भी रोचक तथ्य हो सकते हैं। उम्मीद करता हूँ कि इस पोस्ट में दी गयी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।

ऐसे और भी दिलचस्प बातों और मनोवैज्ञानिक तथ्यों को पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट की सदस्यता लें। अपने दोस्तों और ज़रूरतमंद लोगों को Share जरूर करें साथ ही आपका कोई सुझाव है या फिर आप कुछ भी कहना चाहते हैं। प्लीज हमें comment box में जरूर बताएं।

धन्यवाद!

जय हिन्द! जय भारत!

1 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने