किस तरह के लोग जीवन में असफल रह जाते हैं? | What kind of people fail in life?

सफलता एक ऐसी उपलब्धि है, जिसे हर कोई इंसान किसी भी कीमत पर हांसिल करना ही करना चाहता है. पर क्या सभी को सफलता हमेशा जल्द और आसानी से मिल जाती है? तो इसका उत्तर है नहीं!

 

और आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह के लोग जीवन में असफल ही रह जाते हैं? उम्मीद है कि आप भी इन बातों व तथ्यों से सहमत जरूर होंगे. साथ ही यदि कोई सुझाव या कुछ और तथ्य बताना चाहते है तो कमेन्ट में जरूर लिखें. तो चलिए शुरू करते हैं- 


किस-तरह-के-लोग-जीवन-में-असफल-रह-जाते-हैं


    कंफर्ट जोन में रहना-

    जिन्हें हमेशा अपने सुख-सुविधाओं और सहूलियतों के बीच रहना पसंद होता है. असल ये वो लोग होते हैं जो अपने भौतिक शरीर और दिमाग का पूरी तरह उपयोग नहीं करते हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि इनकी जिंदगी में दुनिया के सारे ऐशो-आराम, जिनमें इन्हें बेहद खुशी व संतुष्टि मिलती है, बहुत ही सरलता से या बिना किसी परिश्रम के मिल जाते हैं.


    लेकिन कभी-कभी कोई-कोई इंसान कठिन परिश्रम के बाद अपने कंफर्ट जोन को हांसिल करता है तो कंफर्ट जोन में पहुंचते ही वह अपने किये गए परिश्रम या संघर्ष को भूल जाता है या भूला देता है.

    चूँकि हमारा शरीर हमेशा से ही आराम पसंद होता है और उस पर यदि हमारी सारी जरूरतें बिना किसी परिश्रम के पूरी हो रही हों, तो दिमाग को एक सिग्नल जाता है कि हमने अपनी सारी जरूरतों को पूरा कर लिया है, जिस कारण हमारा दिमाग कोई खास सक्रियता नहीं दिखाता है.


    दिमाग जब कंफर्ट जोन को महसूस कर लेता है तो वह पूरे शरीर में सिग्नल भेजता है कि सारी जरूरते पूरी हो चुकी है अब तसल्ली से आराम किया जा सकता है. असल में देखा जाए तो जो लोग अपने कंफर्ट जोन में ही रहना पसंद करते हैं, 


    उनमें मौलिक तौर पर रचनात्मकता और अनुभवों की कमी पाई जाती है. ऐसा इसलिए क्योंकि या तो वे परिश्रम करना भूल जाते हैं या फिर इन्हें परिश्रम करना आता ही नहीं.


    असफल होने का डर-

    अक्सर जिन लोगों में आत्मविश्वास की कमी होती है, उन्हें ही असफलता का डर सताता है. क्योंकि आत्मविश्वास को बनाने के लिए व्यक्ति को अपना ज्ञान का स्तर बढ़ाना पड़ता है और ज्ञान आता है अनुभव से. तो जिन लोगों में असफल होने का डर व्याप्त है, 

    उन्हें अपने आपको निखारने और सफल बनाने के लिए नए-नए अनुभव प्राप्तकरना जरूरी होता है, यदि वे अपने इस प्रतिभा पर काम नहीं करते तो उनका यह डर कभी भी जाने वाला नहीं.


    आप जानते ही होंगे कि किसी भी नए काम को शुरू करने के लिए पहले कदम को उठाने में ही सबसे ज्यादा डर लगता है, पर जब आप हिम्मत कर पहला कदम उठा लेते हैं तो चीजों और तथ्यों को सभालने की काबिलियत भी आपमें धीरे-धीरे विकसित होने लगती है, और एक समय के बाद आपको इस चीज का मजा भी आने लगता है.


    लेकिन वहीं यदि आप केवल ख्याल में ही ऐसा करते हैं तो आप कभी भी सफल नहीं हो सकते. तो समय रहते योजना बनाकर चल पड़े अपने लक्ष्य की ओर असफलता को छोड़ते हुए सफलता की ओर....


    और वैसे भी जो लोग असफल होने के डर से कुछ नया नहीं करते वो दुनिया में रहकर भी पशुओं के समान होते हैं, जिन्हें कोई नहीं पूंछता. तो निर्णय आपका है- आप सफल होना चाहते हैं या असफल होने के डर से जानवरों वाली जिंदगी जीना चाहते हैं.


    दूसरों पर झूठा आरोप लगाना-

    जो लोग हमेशा दूसरों पर झूठा आरोप लगाते हैं, वो कभी भी सुखी नहीं रह सकते क्योंकि हमारे कर्म कभी भी हमारा पीछा नहीं छोड़ते, और आज के समय में जो सुखी नहीं है वो ही असफल है. 

    आपने आज के समाज में कई ऐसे लोगों को जरूर देखा होगा जो बात-बात पर अपने निजी और क्षणिक स्वार्थ के लिए दूसरों पर झूठा आरोप मढ़ते रहते हैं.


    झूठा आरोप मढ़ने से कभी-कभी सामने वाले इंसान को बहुत बड़ी क्षति या नुकसान तो होता ही है साथ ही कभी-कभी सामने वाले का पूरा जीवन ही बर्बाद हो जाता है. ऐसे में पीड़ित व्यक्ति द्वारा ऐसी हाय/बद्बुआ दी जाती है जो झूठा आरोप मढ़ने वाले को कहीं का नहीं छोड़ती. 


    आरोप मढ़ने वाले इंसान को कभी शांति मिलती ही नहीं वह हमेशा बेचैन रहता है या उसके परिवार में हमेशा कोई न कोई रोग या विघ्न बना रहता है.


    जिसका निवारण करने अथवा कराने के लिए वह ढेरों प्रयास करता है जिस पर बड़ी मात्रा में खर्च भी होता है. पर फिर भी उसे गारंटी नहीं मिलती कि उसे शांति मिलेगी या नहीं. तो यदि असफल का दामन छोड़कर सफल बनने की राह पर चलना है तो किसी पर झूठा आरोप कभी मत लगाना, 

    और वैसे भी सफल बनने की राह कोई कठिन राह नहीं है. आप इसे सही ढंग से और आसानी से तय कर सकते हैं.


    समय को बर्बाद करना-

    जो लोग समय का महत्व नहीं समझते और अपना समय को यूं ही हंसी-मजाक व घूमने-फिरने में बर्बाद कर देते हैं, समय बीत जाने के बाद उनके पास केवल अपनी असफलता का मातम मनाने के सिवा और कोई चारा नहीं बचता. 


    तो यह बहुत ही जरूरी है कि यदि आप अपने आपको समाज और दुनिया में सफलता के उच्चतम शिखर पर देखना चाहते हैं तो अपने समय का महत्व समझें और उसका सही से उपयोग करना भी सीखें.

    कहते हैं न “अब पछतावे होत क्या, जब चिड़िया चुग गई खेत” तो चिड़िया के चुगने से पहले ही हम अपना खेत क्यों न बचा लें. और वैसे भी आज जो सफल की श्रेणी में गिने जाते हैं, उन्होंने अपने time management बहुत अच्छे से व्यवस्थित किया है.


    अपने सपने और लक्ष्य को स्वयं निश्चित नहीं करते-

    जो अपने सपने और लक्ष्य को स्वयं निश्चित नहीं करते, शत-प्रतिशत ऐसे लोग अपने जीवन में कभी भी सफल नहीं हो पाते. क्योंकि देखा जाए तो ऐसे लोगों ने अपने जीवन की डोर किसी और के हाथों में सौप दी और जीवन पर्यंत दासता स्वीकार कर ली. 


    लक्ष्य विहीन इंसान किसी पशु से कम नहीं होता. सपने देखना और उसे पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित करना स्वतंत्रता की पहचान है.


    हां यदि आपको गुलामी की जिंदगी पसंद है तो यह पोस्ट आपके लिए नहीं हैं. जो लोग अपनी सोच और क्षमताओं को सीमित रखते हैं उनका विकास नहीं करते या विकसित करने से डरते हैं, वे हमेशा असफल ही रह जाते है.

    आज जिन्होंने असफलता से संघर्ष करते हुए सफलता को हांसिल किया गया है उन्होंने अपने सपने को लक्ष्य के रूप में निर्धारित किया और धीरे-धीरे आगे बढ़ते हुए, अपने लक्ष्य को प्राप्त किया और सफल हो गए.


    तीखा व्यवहार-

    जिन लोगों का व्यवहार तीखा और सामने वाले को रुष्ट करने वाला होता है, ऐसे लोग कभी भी सुखी और सफल नहीं बन सकते हैं. व्यवहार प्रकट करने की भावना ही हम इंसानों को एक-दूसरे से अलग करती है. आपने अपने आस-पास कुछ ऐसे लोगों को जरूर देखा होगा, 


    जो केवल अपने कुशल व्यवहार और अपनी मीठी बोली से कई सारे काम दूसरों से करा लेते हैं. लेकिन वहीं अगर कोई व्यक्ति आपके साथ केवल रुखा या रुष्ट करने वाला व्यवहार ही करता है तो क्या आप उससे बात करना चाहेंगे? 

    नहीं न! तो दुनिया और समाज में अपने अस्तित्व को सफलता पूर्वक स्थापित करने के लिए हमारा सौम्य और निष्कपट व्यवहार प्रकट करने का भाव/तरीका सबसे अहम भूमिका निभाता है. और सफल बनने के लिए हमें हर किसी से प्रेम भाव लबरेज निष्कपट व्यवहार ही करना चाहिए.


    अंत में-

    आशा है कि आपको यह लेख "किस तरह के लोग जीवन में असफल ही रह जाते हैं?" अच्छा लगा होगा। पसंद आया हो तो share करें जिससे किसी जरूरतमंद की मदद हो जाए. 


    अगर कोई सुझाव देना चाहते हैं तो कृपया comment box में लिखें और ऐसी ही दिलचस्प बातों और तथ्यों की जानकारियों के लिए हमारे वेबसाइट की सदस्यता जरूर लें।


    धन्यवाद!

    जय हिन्द! जय भारत!

    Post a Comment

    और नया पुराने